Spread the love
  •  
  •  
  •  
  • 1
  •  
  •  
  •  

A list of top two line shayari, Enjoy your day.

 

UrduMahfil.com
Top Two Line Sher

 

Maine kaagaz pe jab bhi tera dukh likha,

Mere  dukh  pe  sabhi  ne  badi  waah  ki.

  *****

मैंने कागज़ पे जब भी तेरा दुःख लिखा,

मेरे  दुःख  पे  सभी  ने   बड़ी   वाह  की |

Poet- Unknown


2

Ek chhota gunaah mohabbat ka,

Zindagi   bhar   hisaab   leta  hai.

    *****

एक छोटा गुनाह मोहब्बत का

ज़िन्दगी भर हिसाब  लेता है |

Poet- Unknown


3

Meri aawargi me kuchh uska bhi hath hai “Mohsin”

Jab uski yaad Aati hai to Ghar achchha  nahi  lagta.

    *****

मेरी  आवारगी  में कुछ  उसका भी हाथ है “मोहसिन”

जब उसकी याद आती है तो घर अच्छा नहीं लगता |

Poet- Mohsin Naqvi


4

Jab Ghazal Meer ki parhta hai padosi mera,

Ek   nami  se  meri   deewar  me  aa  jati  hai.

    *****

जब  ग़ज़ल  मेरे की पढ़ता है पड़ोसी मेरा

एक नमी सी मेरी दीवार में आ जाती है |

Poet- Unknown


5

Utra nahi hai dil se wo koshish ke bawajood,

Ek shakhs  meri zaat par bhaari hai is qadar.

    *****

उतरा नहीं है दिल से वो कोशिश के बावजूद

एक शख्स मेरी ज़ात पर भारी है इस क़दर |

Poet- Unknown


6

Ishq  wo  saatwen  hiss  hai  ke  ata ho  jisko,

Rang sungh jave use, Khushboo dikhai deve.

    *****

इश्क वो सातवें हिस है के अता हो जिसको

रंग  सूंघ  जावे  उसे,  खुशबू  दिखाई   देवे |

Poet- Unknown


7

Mujhe  dekh  kar  Aasma’n ke taare  khafa  hain,

Kahte hain humara ek tara tumhare paas kaise.

    *****

मुझे   देख  कर  आसमां  के  तारे   खफा   हैं

कहते हैं हमारा एक तारा तुम्हारे पास कैसे |

Poet- Unknown


8

Sookhe huye pyalon ko saahil pe patak kar,

Dariya ko samandar bhi kar jate hain pyase.

    *****

सूखे  हुए प्यालों को  साहिल पे पटक कर

दरिया को समंदर भी कर जाते हैं प्यासे |

Poet- Unknown


9

Mera kya rishta November December January se,

Sab  maheene  zalim  hain  ishq  ke  faqeeron  par.

    *****

मेरा क्या रिश्ता नवम्बर, दिसम्बर, जनवरी से

सब  महीने  ज़ालिम  हैं  इश्क  के  फकीरों  पर |

Poet- Unknown


10

Bin bulaye aa jata hai, Sawal nahi karta,

Tera  khyal to mera bhi khyal nahi karta.

    *****

बिन बुलाये आ जाता है सवाल नहीं करता

तेरा ख्याल तो मेरा भी ख्याल नहीं करता |

Poet- Unknown


11

Aise soye  hain  arbaab-e-wafa chain ki  neend,

Jaise uthenge na ab shor-e-Qyamat ke baghair.

    *****

ऐसे  सोये  हैं  अरबाब-वफा  चैन  की  नींद

जसी उठेंगे न अब शोर-कयामत के बगैर |

Poet- Unknown


12

Agar chup-chaap tum  dekho to Dum araam se nikle,

Idhar hum hichki lete hain, udhar tum rone lagti ho.

    *****

अगर चुप-चाप तुम देखो तो दम आराम से निकले

इधर हम हिचकी लेते हैं, उधर तुम रोने लगती हो |

Poet- Unknown


13

Tashkhees bajaa hai ke, mujhe ishq hua hai,

Nushke me  likho  unse  mulaqaat  mosalsal.

    *****

तश्खीस  बजा  है  के,  मुझे   इश्क   हुआ  है

नुश्खे में लिखो उनसे मुलाक़ात मोसल्सल |

Poet- Unknown


14

Main shaher bhar me ek hi aziyat pasand hun,

Gar chahiye Dua kisi ko to mera dil dukhaaye.

    *****

मैं   शहर  भर  में  एक   ही   अज़ीयत   पसंद  हूँ

गर चाहिए दुआ किसी को तो मेरा दिल दुखाये |

Poet- Mohsin Naqvi


15

Kitne  hi  dil  ujaar baitha  hai,

Is ishq ko maut kyon nahi aati.

    *****

कितने   ही   दिल   उजाड़   बैठा   है

इस इश्क को मौत क्यों नहीं आती |

Poet- Unknown


 


Spread the love
  •  
  •  
  •  
  • 1
  •  
  •  
  •